एक ऐसा मंदिर जहां भगवान की नहीं बल्कि बुलेट मोटरसाइकिल की पूजा की जाती है

हमारे दुनिया मे ऐसे अजीबो-गरीब मंदिर होंगे लेकिन ये एक ऐसा मंदिर है जहाँ बुलेट बाइक की पूजा होती है जी हा दोस्तो आपने सही पहचाने किस्से तो हमने पढ़े ही हैं, लेकिन राजस्थान में यह एक ऐसा मंदिर है, जहां हिन्दू भगवान की नहीं, बल्कि बुलेट बाइक की पूजा होती है। यहां के गाँव के लोग मानते हैं कि ओम बन्ना और उनकी बाइक सड़क दुर्घटनाओं से उनकी रक्षा करते हैं

आपको लग रहा होगा यह हकीकत नही  है परन्तु यह एक एकदम सच है. यह मंदिर जोधपुर से 50 किमी दूर हाईवे एन-एच 65 पर स्थित है l

astar4you.com
om banna

इसी मोड़ से रोज जाया करते थे ओम बन्ना

यह जगह  ओम बन्ना मंदिर के नाम से जाना जाता है, । यह मंदिर में आपको किसी ब प्रकार की भगवान मूर्ति नही बल्कि यह आपको इस मोटरसाइकिल की पूजा की जाती है।यह गाँव के लोग कहते है कि ठाकुर ओम सिंह राठौड़ का जन्म पाली के चोटिला गांव में 5 मार्च 1965 में ठाकुर जोग सिंह राठौड़ के घर पर हुआ था। राजस्थान में राजपूतों को बन्ना बोल थे है तो यही वजह से उन्हें ओम बन्ना कहकर पुकारा जाता था।

हादसे में ओम बन्ना की मौत हो गई

वह अपनी बुलेट बाइक जिनकी पूरा गांव पूजा करते है वही बुलेट बाइक को तेज रफ्तार के साथ वे उनकी बाइक का मजा ले  रहे थे कि तभी एक मोड़ आ गया। उन्होंने अपने आपको बी ओर उनकी बाइक को बी संभालने की कोशिश की मगर वह कुछ न कर सके और उनका दर्द नाक एक्सीडेंट हो गया। इस हादसे में ओम बनना जी की मौत हो गई फिर एक्सीडेंट का केस बनाकर पुलिस ने ओम बन्ना की लाश उनके घर पहुंचाई उनकी बुलेट बाइक को अपने साथ पुलिस स्टेशन ले गए। परन्तु इसके बाद जो हुआ वह चौंकाने वाला है। ओर यह एकदम सत्य है दोस्तो इशे मजाक मे मत लेना अगर आपको मजाक लगता हो तो आप मत पढिये लेकिन यह एक दम सतत्य  है

उसके ही अगले दिन  पुलिस जैसे ही पुलिस स्टेशन पहुचे तो उन्हों ने देखा उन्होंने देखा कि ओम बन्ना की बाइक तो वहां से गायब है। हर कोई परेशान ओर  हैरान हो गए कि ओम बन्ना की  बाइक गई कहां? किसी को भी कुछ पता नहीं था कि कौन बाइक को लेकर चला गया है। सबको पहले लगा कि यह किसी चोर ने चोरी कर बाइक को गायब करदिया।

परन्तु हादसे में एक नया ट्विस्ट देखने को  मिला कि  थोड़े ही  देर बाद ही एक सुचना मिली कि वह बाइक तो चोटिला गांव के पास जोधपुर पाली हाईवे पर हालत में खड़ी हुई है। इसके बाद कुछ पुलिस वाले गए उस बाइक को वहां से  वापस थाने ले आए।

तब सबको लगा कि यह किसी चोर का काम होगा और फिर यहां बाइक वह छोड़ कर चला गया। उस रात बाइक पुलिस स्टेशन में ही रही लेकिन  अगले दिन ही  फिर पिछली वाली घटना घटी। ओर बाइक फिरसे वही मिली जहा पहले गई थी

अबकी बार पुलिस वाले ओम बन्ना की बाइक गायब देखकर गबरा गए। फिर थोड़ी देर बाद उन्हें पता चला कि ओम बन्ना की बाइक उनके दुर्घटनास्थल पर फिर से देखी गई है। किसी को समझ नहीं आ रहा था कि ये सब क्या  हो रहा है।

फिर सबको इस लगा कि कोई उनके साथ मजाक कर रहा है। इस बार चोर को बाइक चुराने का कोई मौका नहीं दिया गया। इसलिए उन्होंने बाइक का सारा पेट्रोल निकाल दिया। इतना ही नहीं उन्होंने बाइक को चेन से भी बांध दिया।

अगले दिन थाने से फिर से बाइक गायब मिली। इसके बाद पुलिस ने कई बार  बाइक को जब्त किया और हमेशा वह फिर से दुर्घटनास्थल पर ही वापस मिलती थी।

गव वालों को जब यह बात पता चली तो लोगों ने इसे जादू  समजे ओर दुर्घटनास्थल पर ओम बन्ना का एक स्मारक बनाने का निर्णय किया। ओर बस तभी से जहा उनका एक्सीडेंट हुवा वही ओम बन्ना के नाम से एक स्मारक बना दिया और गाव के लोगो ने उनकी बाइक को वहां पर रख दिया गया।

ओर तबसे गाव के लोग बुलेट बाइक की पुजा करते आ रहे है। ओर दोस्तो ये एक दम हकीक़त है आप जाकर पता कर सकते है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *